आँधियों से कह दो कहीं और जाकर चलें

आँधियों से कह दो कहीं और जाकर चलें; अभी हम छत पर पैग
बना रहे हैं, डिस्पोज़ल गिलास कहीं उड़ ना जायें। 🙂 🙂

Leave a Comment