आज तेरी याद सीने से लगा

आज तेरी याद सीने से लगा कर हम रोये, तन्हाई में तुझे पास
बुला कर हम रोये,
कई बार पुकारा इस दिल ने तुम्हें, हर बार तुम्हें ना पाकर हम रोये..!!!

कश्ती के मुसाफिर ने समन्दर, Sad Shayari

कश्ती के मुसाफिर ने समन्दर नहीं देखा, आँखों को देखा पर दिल
मे उतर कर नहीं देखा,
पत्थर समझते है मेरे चाहने वाले मुझे, हम तो मोम है किसी ने
छूकर नहीं देखा।