वो सोचती है कि बङे चैन से

वो सोचती है कि बङे चैन से सो रहा हूँ मै,
उसे क्या पता ओढ़ के चादर रो रहा हूँ मैं…!!!

मेरे ईश्क का इतिहास मत

मेरे ईश्क का इतिहास मत लिखो, कि शहादत अभी बाकी है,
कुछ देर और ठहरो मेरे हूजूर, कि ईबादत अभी बाकी है…!!!

विवाह एक भरोसा

विवाह एक भरोसा, एक समर्पण है, तारीफ उस स्त्री की
जिसने खुदका घर छोड़ दिया और धन्य वो पुरुष जिसने
अंजान स्त्री को सारा घरबार सौंप दिया…!!!