Mere jine ke liye tera armaan

Mere jine ke liye tera armaan
Mere jine ke liye tera armaan hi kafi hain, Dil ke kalam se likhi
ye dastaan hi kafi hain
Tir-e-talwaar ki tujhe kya zarurat-e-nazneen, Qatl karne ke liye
teri muskaan hi kafi hain….!!!

लगता है तुम्हें नज़र में बसा लूँ

लगता है तुम्हें नज़र में बसा लूँ, औरों की नजरों से तुम्हें
बचा लूँ, कहीं चूरा ना ले तुम्हें मुझसे कोई, आ तुझे मैं अपनी
धड़कन में छुपा लूँ…!!!!